Article | Corona in India With Sanskrit Sense (हिंदी में भी)

Corona - 2019 Talk

ARTICLE CORONA GLOBAL
Article Corona in India With Sanskrit Sense (हिंदी में भी)

For the last few months, you are familiar with the global problem that is known as COVID-2019. This is a type of virus and infectious disease, when this disease was first detected in a city of China, no one thought that such a terrible form would happen and is spreading all over the world today. Which has shaken the whole world today, but it is having a wide impact in every field. But we all believe that the scientists of the world will take medicines out of this global virus and infectious disease.

When people came to know in India, they were not understanding seriously, but gradually started spreading, then people started following the rules of social distancing, cleanliness, security, lock down and government.

In this global problem, the problems of all sections of the world occurred and in India, especially the laborers and daily earners, for which the government has made some plans for this and some social organizations are being helped through it. Which has been the culture and history of our country that whenever any crisis comes in the country, people here help each other and face a mixed crisis.

India is an agrarian country whose majority of people live in villages that produce grains like rice and wheat, which has proved very helpful in these adverse conditions. The people of the village have followed the lock down very tightly. Even today, we all use the local market, India is very less dependent on the food coming in shopping malls or stores or readymade packets.

Thank you to all those people who are engaged day and night to save the world and our country, like doctors, nurses, medical staff, policemen, army and people who will be thankful to all of you for reaching out to us for our needs. .

Let's take the oath that to defeat Corona 2019, they will follow all the rules as well as help those in need.

Sanskrit States:

ॐ (Om) Survey Bhavantu Sukhin.

Survey Santu Niramaya.

Survey Bhadrani Pashyantu.

Maa Kashchid Dukh Bhagbhavet.

ॐ (Om) Peace: Peace: Peace

English Sense:

May all be Happy, all be free from Disease, May everyone's life be Auspicious and no one becomes a Partaker of Sorrow.

O God, give us such a Blessing.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------

 कोरोना-2019 की बाते

पिछले बीते कुछ महीनो से जिस वैश्विक समस्या से लड़ रहे उस समस्या से आप परिचित है जो कोविड-2019 के नाम से जाना जाता है. यह एक प्रकार का विषाणु एवं संक्रामक रोग है इस रोग का पता सबसे पहले चीन के कोई शहर में जब इस विषाणु के बारे पता चला तो किसी ने ये नहीं सोचा था की इतना भयानक रूप होगा और आज पूरी दुनिया में फ़ैल रहा है. जो आज पुरे विश्व को हिला दिया है साथ इसका हर क्षेत्र में व्यापक असर पड़ रहा है. लेकिन हम सब को विश्वास है कि विश्व के वैज्ञानिक इस वैश्विक विषाणु एवं संक्रामक रोग का दवाई निकल लेंगे.

जब भारत में लोगो को पता चला तो गंभीरता से नहीं समझ रहे थे, लेकिन धीरे - धीरे फैलने लगा तो लोग सोशल डिस्टेंसिंग, साफ सफाई, सुरक्षा, लॉक डाउन तथा सरकार के नियमो का पालन करने लगे.

इस वैश्विक समस्या में तकलीफ सभी विश्व के वर्गों को हुआ और भारत में खास कर मजदूर रोज कमाने - खाने वालो को जिसके उपाय के लिए सरकार ने कुछ योजना बनाई है तथा कुछ सामाजिक संगठनों के माध्यम से मदद किया जा रहा है. जो हमारे देश की संस्कृति इतिहास रहा है कि जब भी देश कोई भी संकट आता है तो यहाँ के लोग एक दूसरे का मदद करते है और मिल - जुल संकट का सामना करते है.

भारत एक कृषि प्रधान देश है जिसके चले अधिकांश लोग गांवों में रहते जिनके पास चावल गेंहू आदि अनाज पैदा करते है, जिसे इन विषम परिस्थितियों बहुत मददगार साबित हुआ है. गाँव के लोग लॉक डाउन का बहुत कड़े से पालन किया है. आज भी हम सब लोकल बाजार का उपयोग करते है शॉपिंग मॉल या स्टोर या रेडीमेड पैकेट में आने वाला खाद्य सामग्री पर भारत बहुत कम ही निर्भर है.

उन सभी लोगो का धन्यवाद जो विश्व और हमारे देश को बचाने के लिए दिन रात लगे हुए है जैसे कि डॉक्टर्स, नर्सेज, मेडिकल स्टाफ, पुलिसमैन, आर्मी और वो लोग जो हमरे जरूरतों का सामान हम तक पहुँचने के लिए आप सब का आभार रहेगा हमेशा.

चलो शपथ लेते है की कोरोना 2019 को हराने के लिए सभी नियमो का पालन करेंगे साथ ही उन जरूरतमंदों का पूरा मदद करेंगे.

संस्कृत में कहा गया है:

सर्वे भवन्तु सुखिनः।

सर्वे सन्तु निरामयाः।

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु।

मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्॥

शान्तिः शान्तिः शान्तिः॥

हिन्दी भावार्थ:

सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी का जीवन मंगलमय बनें और कोई भी दुःख का भागी बने.

हे भगवन हमें ऐसा वर दो.

Post a comment

0 Comments